Header Ads Widget

Gst ka matlab kya hai? GST kya hai? Gst ka full form kya hai?

"GST ka matlab kya hai" ये सभी लोग जानना चाहते हैं।2017 से पहले इंडिया के हर स्टेट में income tax वसूला जाता था।Sale tax ,VAT, indirect tax, direct tax न जाने कितने तरह के tax वसूले जाते थे।उस समय indian tax system काफी पेचीदा था लेकिन साल 2017 को indian tax system में revolution आया।सारे Tax को खत्म कर दिया गया।अब केवल एक ही tax बचा जिसे हमलोग GST बोलते हैं।

पहले के समय में बहुत लोग tax pay करने से बचते थे।वह tax चोरी करते थे लेकिन जैसे ही GST आया वैसे ही लोग में डर बन गया।अब ऐसा हो गया कि सभी लोग manufacturer, service provider सभी को tax pay करना अनिवार्य कर दिया गया।

आज हर चीज़ में GST pay करना पड़ता हैं।खाने से लेकर कही घूमने तक GST pay करना पड़ता हैं।GST tax pay करना बहुत मुश्किल task हैं।

कई लोग ऐसे है जो आजतक gst को समझ ही नही पाए हैं।GST pay करने की प्रक्रिया भी उन्हें नही पता हैं।इन लोगो के लिए GST pay करना बहुत कठिन काम हैं।इसी कारण से  government ने काफी सारे gst सुविधा केंद्र खोलने की अनुमति दे दि हैं।

Must read


Gst ka matlab kya hai?GST kya hai in hindi.

Gst का मतलब Goods एंड services tax होता हैं।India में tax system को ओर सरल और आसान बनाने के लिए indian market में GST की उत्पति हुई।
पहले के समय में tax system काफी unusual और मुश्किल था।state government के कुछ अलग टैक्स लिए जाते थे और central government के द्वारा अलग टैक्स लिए जाते थे लेकिन धीरे धीरे tax system में परिवर्तन आया और आसान बनाने की प्रक्रिया शुरू हुई और इसी कारण से एक दिन GST का विकास हुआ।GST में चार slabs में tax वसूले जाते हैं वो चार slab है 5%,12%,18% और 28%.

GST ka matlab kya hai

History of Gst in india?भारत में GST का इतिहास।

भारत में GST की कल्पना सबसे पहले हमारे पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी के द्वारा साल 2001 में किया गया था लेकिन किसी कारणवश ये संभव नही हो पाया।

दुबारा जब UPA सरकार आयी तभी भारत के प्रधानमंत्री श्री मनमोहन सिंह जी थे।उस समय साल 2007 को upa government के द्वारा GST का अनुमोदन किया गया।साल 2010 में पहली बार इसे बिल के रूप में लोकसभा में लाया गया।

कुछ कमी के कारण ये लोकसभा में पास न हो पाया।फिर दुबारा 2014 को जब NDA की सरकार आयी तभी भारत के प्रधानमंत्री श्री narendri modi आये।इनके आने के बाद फिर भारत में GST एक चर्चा का विषय बन गया।देश में अधिकतर लोगों की demand थी कि ONE NATION ONE TAX होना चाहिए।साल 2015 को फिर दोबारा से लोकसभा में GST bill लाया गया।GST bill लोकसभा में पास हो गया लेकिन राज्यसभा में नही हो पाया।यह बिल दो 
सालों तक राज्यसभा में अटका रहा।फिर साल 2017 को राज्य सभा में GST bill पास हो गया।

साल 2017 के जुलाई month से GST पूरी india में लागू कर दिया गया।इस तरह से india में GST का आगमन हुआ।

GST ka Full form kya hai?

GST का full form Goods and service tax होता हैं।

GST कितने प्रकार के होते हैं?How many types of GST?

आपने GST के बारे में अच्छे से जान गए हैं लेकिन आपको पता है कि gst कितने प्रकार के होते हैं अगर नही जानते हैं तो चलिये एक एक करके जानते हैं।

IGST

IGST का पूरा मतलब Integerated Good and service tax होता हैं।जिस तरह से CGST और SGST होता है उसी तरह से IGST होता हैं।IGST tax का 18% पूरी central government रखती हैं।IGST tax तभी लगाइ जाती है जब product एक state से दूसरे state में बेची जाती हैं या एक state से दूसरे state ले जाया जाता हैं।

आप जब भी product को खरीदे उसके तुरंत बाद आपसे IGST काट लिया जाता हैं।अगर उस product का व्यापार उसी state में होने वाला है तब state और centre में tax का बटवारा हो जाएगा।

SGST

SGST का पूरा मतलब State Goods and service tax होता हैं।SGST tax state government के द्वारा लिया जाता हैं।SGST tax तभी लगता है जब कोई इंसान business एक ही state में करता हैं वरना IGST लगता हैं।

जब कोई बन्दा अपने ही state में business करता है तो उन्हें tax के तौर पर SGST देना पड़ता हैं जो कि 9% होता हैं।

CGST

CGST का पूरा नाम Central Goods and Service tax होता हैं।यह tax central government के द्वारा वसूला जाता हैं।वास्तव में CGST और SGST एक ही में लिया जाता हैं जो कि 18% होता हैं।इसमे 9% central government रखती और 9% state government रखती हैं।जब कोई product को एक ही state में manufacture किया गया और उसी state में बेच दिया जाता हैं तो इस समय GST का बटवारा आधा state को होता है और आधा central को।


GST के फायदे।Benifits of Gst

◆Manufacturing cost कम हुए।
◆GDP में बढ़ोतरी
◆Digitalisation को boost मिला।
◆घरेलू industry को boost मिला।
◆Inflation कम हुए।
◆Foreign investors की बढौतरी हुई।
◆सभी तरह के tax को खत्म करके single tax का अनुमोदन हुआ।
◆Tax में certaintity बढ़ी।

कौन कौन से items में GST को लागू नही किया गया हैं?

GST लागू होने के बावजूद आज भी कई सारे items market में उपलब्ध हैं जिसपर GST लागू नही होते हैं।चलिये उन सभी products और items के बारे में एक एक करके जानते हैं।

1.Petroleum products 
2.Alcohol
3.Electricity

GST आने के बाद कौन कौन से tax को खत्म किया गया।

Tax system को सरल और आसान बनाने के लिए सारी taxes को एक single tax में बदल दिया गया।सारे पुराने tax को खत्म कर दिया गया।अब एक ही tax बचा जिसे हमलोग GST बोलते हैं।

चलिये जानते है वो कौन कौन से tax को खत्म कर दिया गया।

State government के द्वारा लगाया जानेवाला Tax जिसे खत्म कर दिया गया।
1.Value Added tax(VAT)
2.Purchase tax
3.Cess and Surcharges
4.Amusement और Entertainment tax
5.Betting, Lottery tax
6.Octroi duty
7.Entry tax

Central government के द्वारा लगाया गया tax जिसे GST से खत्म किया गया।
1.Excise Duty
2.Service tax
3.Sale tax
4.Countervailing duty 
5.Central Excise duty
6.Special Custom duty

GST आने के बाद इनसब tax को खत्म कर दिया गया।

Conclusion

GST ka maltab kya hai इसके बारे में तो हमलोग जान गए साथ ही gst की शुरुवात कब और कैसे हुई इसके बारे में भी ऊपर में संछिप्त में बताया गया हैं।

आप इस article को अच्छा से पढ़े ताकि gst के advantage के बारे में आपको पता चले।Gst आने से consumer और Manufacturer दोनों को फायदा हुआ।Gst के आने से tax system ओर सरल हो गया।





एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ